Gulzar Shayari | Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar Shayari | Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

ख़फ़ा थी शाख़ से शायद कि जब हवा गुज़री

ज़मीं पे गिरते हुए फूल बे-शुमार दिखे

Khafa Thi Shakh Se Shayad Ki Jab Hawa Guzari

Jamin Pe Girate Hue Phool Be-Shumar Dikhe

Gulzar ki Shayari in Hindi

हम ने अक्सर तुम्हारी राहों में

रुक कर अपना ही इंतिज़ार किया

HumNe Aksar Tumhari Raahon Mein

Ruk Kar Apana Hi Intizar Kiya

Gulzar ki Shayari in Hindi

दिखाई देते हैं धुँद में जैसे साए कोई

मगर बुलाने से वक़्त लौटे न आए कोई

Dikhai Dete hain Dhundh Me Jaise Sae Koi

Magar Bulane Se Waq Laute Na Aae Koi

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

आने वाला पल जाने वाला है हो सके तो इसमें जिंदगी बिता दो पल जो यह जाने वाला है

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ

उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की

Kitani Lambi Khamoshi Se Guzara Hun

Un Se Kitana Kuchh Kahane Ki Koshish Ki

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

तुम्हारे ख़्वाब से हर शब लिपट के सोते हैं

सज़ाएँ भेज दो हम ने ख़ताएँ भेजी हैं

Tumhar Khwab Se Har Shab Lipat Ke Sote Hain

Sajaen Bhej Do Hum Ne Khataen Bheji hain

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

रात को दे दो चाँदनी की रिदा 1

दिन की चादर अभी उतारी है
ओढ़ने की चादर

Raat Ko De Do Chandani Ki Rida

Din Ki Chadar Abhi Utari Hai

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

फिर न माँगेंगे ज़िंदगी या-रब

ये गुनह हम ने एक बार किया

Fir Na Mangenge Zindagi Ya Rab

Ye Gunah Ham Ne Ek Bar Kiya

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

हाथ छूटे भी तो रिश्ते छोड़ा नहीं करते वक्त के साथ से लम्हे थोड़ा नहीं करते

Gulzar ki Shayari in Hindi

उमर कहती है अब संजीदा हुआ जाए दिल कहता है कुछ नादानी और सही

Gulzar ki Shayari in Hindi

Page: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10