Gulzar Shayari | Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar Shayari | Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

अगर चांद ना होता आसमां पर हम किसे आप सा हसीं कहते

Gulzar ki Shayari in Hindi

खामोशी से गुजरा हूं उनसे कितना कुछ कहने की कोशिश की

Gulzar ki Shayari in Hindi

तिनका तिनका कांटे तोड़े, सारी रात कटाई की क्यों इतनी लंबी होती है, चांदनी रात जुदाई की

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

कल फिर चांद सा खंजर घोप के सीने में रात ने मेरी जान लेने की कोशिश की

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

खिड़की में कटी है सब रातें कुछ चौरस थी कुछ गोल कभी

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

जिसकी आंखों में कटी थी सदियां उसने सदियों की जुदाई दी है

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

चिंगारी एक अटक से गई मेरे सीने में थोड़ा सा के फूक दो उड़ता नहीं दूंगा

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

यह शुक्र है कि मेरे पास तेरा दम तो रहा वरना जिंदगी ने तो रुला दिया होता

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

वो खत के पुर्जे उड़ा रहा था हवाओं का रुख दिखा रहा था

Gulzar ki Shayari in Hindi

पनाह मिल जाए रूह को जिसका हाथ छूकर उसी हथेली पर घर बना लो (30)

Gulzar ki Shayari in Hindi

Page: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10