Gulzar Shayari | Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar Shayari | Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

जब भी यह दिल उदास होता है जाने कौन आस पास होता है

Gulzar ki Shayari in Hindi

इच्छाएं बड़ी बेवफा होती हैं कमबख्त पूरी होते ही बदल जाती है

Gulzar ki Shayari in Hindi

मेरी दहलीज पर बैठी हुई जानू यह सर रखें यह सब अफसोस करने हैं कि मेरे घर पर

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

जिंदगी यूं हुई बसर तनहा काफिला साथ और सफर तन्हा

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

अपने मांझी की जुस्तजू में बहार पीले पत्ते तलाश करती है

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

एक पल देखे तो उठता हूं जल गया घर जरा सा लगा रहता है

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

पेड़ पर पक गए हैं फल शायद फिर से पत्थर उछलता है कोई

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

कभी तो शौक के देखे कोई हमारी तरफ किसी की आंख में हमको भी इंतजार दिखे

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

गुलों को सुनना जरा तुम सदाएं भेजी हैं बोलो कि हाथ बहुत से दुआएं भेजे हैं

Gulzar ki Shayari in Hindi

जिंदगी पर भी कोई जोर नहीं दिल ने हर चीज पराई दी है (40)

Gulzar ki Shayari in Hindi

Page: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10