Gulzar Shayari | Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar Shayari | Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

यूं भी एक बार तो होता कि समुंदर बहता कोई एहसास तो दरिया की अना होता

Gulzar ki Shayari in Hindi

मेरे मोहल्ले का आसमान सुना हो गया है बुलंदियों पर अब आगे पेचेन लड़ये कोई

Gulzar ki Shayari in Hindi

एक ही ख्वाब ने सारी रात जगाया है मैंने हर करवट सोने की कोशिश की

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

चंद उम्मीदें निचोड़ी थीं तो आहें टपकीं

दिल को पिघलाएँ तो हो सकता है साँसें निकलें

Chand Ummid Nichodi Thi To Aahen Tapaki

Dil Ko Pighalaen To Ho Sakata Hai Sansen Nikalen

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

ख्वाब टूटे न कोई जाग न जाए देखो जाग जायेगा कोई ख़्वाब तो मर जाएगा

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

आप ने औरों से कहा सब कुछ

हम से भी कुछ कभी कहीं कहते

Aap Ne Auron Se Kaha Sabkuch

Hum se Bhi Kuch Kabhi Kahin Kahate

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

रिश्ते बस रिश्ते होते हैं कुछ एक पल के कुछ दो पल के

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

ऐसी मेरी नजर उनसे हटती नहीं दांत से रेशमी डोर कटती नहीं उमरा कब की बर्फ के सफेद हो गई कारी बदरी जवानी की छटती नहीं

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

जाने किस का जिक्र है इस अफ़साने में दर्ज मजे लेता है जो दोहराने में

Gulzar ki Shayari in Hindi

यह रोटियां है यह सिक्के हैं और दायरे हैं यह एक दूजे को दिनभर पकड़े रहते हैं (50)

Gulzar ki Shayari in Hindi

Page: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10