Gulzar Shayari | Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar Shayari | Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

नाम मेरा था और पता अपने घर का उसने मुझको खत लिखने की कोशिश की

Gulzar ki Shayari in Hindi

खुशबू जैसे लोग मिले अफ़साने में एक पुराना खत खोला अनजाने में

Gulzar ki Shayari in Hindi

दिन गुजरता नहीं है लोगों में रात होती नहीं, बसर तन्हा

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

शाम से आंखों में नमी सी है आज फिर आपकी कमी सी है

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

आदतन तुमने कर दिए वादे आदतन हमने ऐतबार किया

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

जख्म कहते हैं दिल का कहना है दर्द दिल का लीवास होता है

jakhm kahate hain dil ka kahana hai dard dil ka leevaas hota hai

Gulzar ki Shayari in Hindi

अपने साए से चौंक जाते हैं उम्र गुज़री है इस कदर तन्हा

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

हम इस मोड़ से उठकर अगले मोड़ चले

Gulzar ki Shayari in Hindi

Gulzar ki Shayari in Hindi

फिर किसी दर्द को सहलाकर सुलझा ले आंखों फिर किसी दुखती हुई रग में छुपा दे नश्तर

Gulzar ki Shayari in Hindi

आइना देख कर तसल्ली हुई. हमको इस घर में जानता है कोई

Gulzar ki Shayari in Hindi (90)

Page: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10